Friday, 17 March 2017

हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!

हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!


इंसान👳एक पेड़🌳से...!!!
हे पेड़!!! कितना अभागा है तू...!!!
जब तक कोई तेरे को पत्थर ना मारे;
तब तक तू फल ही नहीं देता।
.
पेड़🌳का जवाब...✍
हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!
मैं तो अपने मीठे फल ही जमीं पर गिराता हूँ
लेकिन तुम लोग फिर भी मुझे पत्थर मारते हो,
फिर मैं उन पत्थरों को भी सहकर तुम्हें फल देता हूँ!!
और फिर बाद में अभागा जैसा शब्द भी तुम्हारे मुँह से सुनता हूँ!!!
अब तू ही बता कि अभागा कौन...???
.
इंसान👳एक🌅नदी से...!!!
हे नदी!!! बड़ी क्रूर हो तुम...!!
जो तुम्हारे घाट पर आता है;
कभी-कभी तुम उसकी भी जान ले लेती हो!!!
.
नदी🌅का जवाब...✍
हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!
वरना मैं तो उन प्यासे जीवों की भी प्यास बुझाती हूँ
जिन्हें तुम देखना भी पसंद नहीं करते..!!
और तुम तो कभी-कभी पैसों के लिए क्रूरता से; अपने सगों का ही क़त्ल कर देते हो..!!!
अब तू ही बता कि क्रूर कौन...???
.
इंसान👳एक शेर🐯से...!!!
हे शेर!!! बड़ा दुष्ट है तू...!!!
बड़ी ही बेदर्दी से किसी भी जानवर को मार कर खा जाता है तू!!!
.
शेर🐯का जवाब...✍
हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!
अगर मेरे दाँत और आँत तेरे जैसे होते
तो मैं किसी जानवर को मारकर खाता तो क्या; ऐसा करने की सोचता भी नहीं...!!!
वो तो तू ही है जो मौका पड़े तो जानवर तो क्या; हम जैसे शेर को भी मारकर खा जाए..!!!
अब तू ही बता कि दुष्ट कौन...???
.
इंसान👳एक कांटे↗से...!!!
हे कांटे!!! बड़ा बेशर्म है तू...!!!
जो तेरा कुछ भी नहीं बिगाड़ता;
अक्सर तू उसे ही चुभ जाता है।
.
कांटे↗का जवाब...✍
हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!
वरना मैं तो अपनी जगह ही स्थिर रहता हूँ; वो तो तुम ही हो जो देखकर नहीं चलते तो तुम्हें चुभन देकर; तुम्हारी गलती का अहसास कराता हूँ।
और तुम गलती का अहसास ना करके बड़ी ही बेशर्मी से मुझे ही बुरा-भला कहते हो..!!
अब तू ही बता कि बेशरम कौन...???
.
इंसान👳भगवान☝से...!!!
हे भगवान!!! बड़ा अन्यायी है तू...!!!
किसी को तूने यहाँ राजा बना दिया है तो किसी को रंक...!!!
.
भगवान☝का जवाब...✍
हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!
वरना पेड़🌳, नदी🌅, शेर🐯और कांटे↗के जवाब से ही तू मेरे अन्यायी होने का भी जवाब खोज सकता था!!!
खैर; मैंने तो हर इंसान को दो हाथ और दो पैर दिए हैं..!!!
वो तो तुम ही हो जो एक दूसरे के साथ अन्याय करके; उसे पीछे धकेलना चाहते हो..!!!
अब तू ही बता कि अन्यायी कौन...???
.
Moral of this poem :- दोस्तों👬, इस प्रकृति🌍की किसी भी चीज में कोई कमी नहीं है वो तो हमारी सोच ही है जो इतने खूबसूरत चाँद🌝में भी सिर्फ दाग🌚देखती है; ना कि उसकी खूबसूरती🌝।
बस अपनी सोच को खूबसूरत🌈बना लीजिए फिर ये दुनियां🌍भी तुम्हें ख़ूबसूरत💖ही नजर आएगी।
जय हिंद।
.
अगर आपको ये poem पसंद आई हो तो बाकी की poem भी पढें...!!!
और regular visit करते रहिए हमारी technic jagrukta वेबसाइट को!!!
हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं!!!
.
इन poems को भी पढ़ें =>

Wednesday, 15 March 2017

01.Best Android App

Best Adroid Apps & Description
.
हैलो दोस्तों,
technic jagrukta वेबसाइट में अब; एक और label (category) को Add किया गया है!
जिसका name है:-
"Best Adroid Apps & Description"
.
जैसा कि name से स्पष्ट है कि इसमें सबसे अच्छे और usable App के बारे में; details से बताया जाएगा।
ताकि आप हर अच्छे App का लाभ ले सकें जो कि आपके smartphone को और भी smart बना दें।
तो आइये start करते हैं...

●आज हर वो शख्श; जो smartphone use करता है उसकी मुख्य समस्या Battery Backup का कम होना है।
.
और किसी भी मोबाइल के Battery Backup कम होने का एक कारण overcharge होना भी है।
.
कुछ लोग अपना मोबाइल overcharge होने की परवाह नहीं करते क्योंकि उन्हें तो अपने मोबाइल की battery सुबह; full जो देखनी है।
और फिर कुछ समय बाद; उन लोगों को भी Battery Backup जैसी समस्या से रूबरू होना पड़ता है।
.
तो कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनकी मोबाइल की battery भले ही Discharge हो लेकिन वो उसे फिर भी charge नहीं करते!!
क्योंकि उन्हें हमेशा डर सताता रहता है कि कहीं उनका मोबाइल overcharge ना हो जाए।
और इसी डर से वो मोबाइल को overcharge होने के बजाय Discharge रखना पसंद👍 करते हैं।
लेकिन ऐसे लोगों को सुबह होते ही सबसे पहले अपना मोबाइल charging पर लगाना पड़ता है और उसकी battery full charge होने तक, इन्तजार करना पड़ता है।
.
अब आप देख सकते हैं कि इन दोनों condition में ही सबको problem का सामना करना पड़ रहा है।
.
खैर, technic jagrukta पर हर problem का solution है।
तो इस problem का जो solution है वह है एक Android App जो play store पर free में उपलब्ध है...
जिसका name है...
"Full Battery theft Alarm"



जी हाँ; Full Battery theft Alarm एक ऐसा Android App है जिसकी मदद से आप Battery को overcharge होने से तो बचा ही सकते हैं, साथ ही साथ अपने mobile को चोरी होने से भी बचा सकते हैं।
.
इस App के अंदर बहुत सारे feature हैं..!!
लेकिन जो मुख्य feature हैं वो चार हैं :-
.
1. Full Battery Alarm:-
(View image)

Mainly, इसी feature को ध्यान में रखते हुए ये App बनाया गया है इसे enable करके; आप रात को मोबाइल charge पर लगाकर, बेफिक्र होकर सो सकते हैं।
क्योंकि यह App आपके द्वारा set की गई battery level तक चार्ज होते ही Alert करने लगेगा।
जैसे कि आपने 90% Battery level पर Alarm set कर दिया, तो जैसे ही आपका mobile 90% charge तक पहुंचेगा; तो उसी वक़्त ये ring करने लगेगा कि आपका मोबाइल 90% charge हो गया है तो alarm सुनकर आप तुरंत अपने मोबाइल को charger से disconnect कर, overcharge होने से बचा लीजिये।
है ना कमाल का फीचर।
.
2. Anti theft:-
(View image)


शादी समारोह में जाने पर हर किसी को mobile charging की समस्या से गुजरना पड़ता है अगर समस्या solve भी हो गई तो कोई अपना मोबाइल चोरी होने के डर से चार्ज पर नहीं लगाता।
वैसे तो public place पर mobile चार्ज नहीं करना चाहिए लेकिन अगर जरुरत ज्यादा है।
तो इस app के द्वारा आप थोड़ा बेफिकर हो सकते हैं और मोबाइल charge कर सकते हैं..!!
क्योंकि मोबाइल charge पर लगाते ही यह app Theft Alarm का option देता है जिसे आप enable कर सकते हैं।

ऐसा करने से जैसे ही कोई आपका मोबाइल charger से disconnect करेगा तो आपका मोबाइल loudly आवाज करने लगेगा और वह तब तक बंद नहीं होगा जब तक कि आपके द्वारा set password उसमे ना डाला जाए।

3. Battery temperature warning level:-


इसे enable करने पर आप अपनी battery को overheat होने से बचा सकते हैं क्योंकि जैसे ही आपकी battery ज्यादा गर्म होगी तो यह आपके द्वारा set level पर indicate करने लगेगा।
और आप; इस बीच अपने मोबाइल को थोड़ा rest दे सकते हैं।

4. low battery level:-
(View image)

Android mobile में 15% पहुँचने पर normally low battery warning दी जाती है लेकिन इस App के जरिये आप low Battery warning भी अपने हिसाब से manage कर सकते हैं।
जैसे कि :- 15%, 20%, 25% etc.
.
तो friends, ये थे इस app के features और description.
.
आपको यह BLOG कैसा लगा, कृपया अपने comments के माध्यम से अवश्य बताइयेगा।
जय हिंद।

Monday, 13 March 2017

Behind the reason of i am fine!!

आखिर परेशान होने के बावजूद भी क्यों कहतें हैं लोग; कि मस्त हूँ..!!
जानिये reason...!!


आज हर किसी की जिंदगी में परेशानी नामक शब्द ने अपनी जगह बना ली है..!!!
●अगर आज कोई आपका हालचाल पूछता है तो आप मस्त हो कहकर फिर उसका हाल पूछने लगते हो...जबकि आपकी जिंदगी में मस्त का 'म' भी नहीं होता है।
''यह Article आप technic jagrukta वेबसाइट पर पढ़ रहे हैं''
खैर, आपने कभी सोचा है कि आप हमेशा सभी से; मस्त हैं, ठीक हैं, अच्छे हैं आदि। क्यों कहते हो..??
जबकि आपकी जिंदगी में कुछ और ही चल रहा होता है।
कुछ ही ऐसे लोग होंगे जो सभी को अपना वास्तविक हाल बताते होंगें..!!
.
अगर गहराई से सोचा जाये तो हर मुश्किल का हल निकल ही आता है..!!
.
चलो आज इसी बात की गहराई में चलते हैं कि हम परेशान होने के बावजूद भी किसी के द्वारा पूछे जाने पर ठीक हैं; क्यों कहतें हैं..???
.
हालाँकि इसका जवाब थोड़ा complicated है but उतना ही effective.
.
ऐसा इसलिए होता है क्योंकि सामने वाले ने अगर प्रश्न किया कि भाई कैसे हो..???
तो दरअसल आप बताना चाहते हों कि आपकी जिंदगी में वाकई ही बहुत problems हैं...
लेकिन रुक जाते हो क्योंकि आपकी problems को आप कुछ ही शब्दों में बयाँ करना नहीं चाहते हो अगर आपने अपनी problems बताना start किया तो काफी समय लग जाएगा और शायद दूसरा भी upset हो जाएगा।
फिर भी इस बात की कोई जवाबदेही नहीं कि solution भी मिल ही जाएगा।
ये सारी बातें सिर्फ 5 सेकंड के अंदर ही दिमाग में चक्कर लगा देती हैं
और फिर आप दिल से ना बताकर दिमाग से बोलते हो कि भाई अच्छा हूँ..!!😊😊
क्योंकि इसके बाद उस व्यक्ति के पास; पूछने को कोई दूसरा प्रश्न; बचा ही कहाँ..??
इसीलिए आजकल; क्या हाल है..?? का common reply "मस्त हूँ" बन गया है।😊😊

.
अब दूसरी बात को लेते हैं...
अगर आप बोले कि मस्त नहीं हो..!!
तो उधर से दूसरा प्रश्न होगा - क्यों..??
तो फिर आपको reason बताना होगा..!!
फिर तो दूसरी तरफ से two liner प्रश्न (कब, कहाँ, क्यों, कैसे ??) का इतना अम्बार लग जाएगा कि आप सभी प्रश्नों के reply देने में असहज महसूस करोगे।
इसीलिये इन 100 प्रकार के प्रश्नों से बचने के लिए बोला जाता है कि मस्त हैं भाई।👍👍
.
वैसे, एक तरह से देखा जाए तो ये सही भी है क्योंकि अपनी हर एक बात और ना ही हर एक समस्या हर किसी के साथ share नहीं करना चाहिए।
क्योंकि अगर आप ऐसा करते हो तो आपको ये लंबे समय तक याद नहीं रहेगा कि आपने अपनी समस्याएं किस-किस को बताईं थीं।
जबकि दूसरी तरफ वो याद रख लेंगें और फिर एक दिन आपकी ही बातें; आपको बताकर; आपको चौंका देंगें।
और बदले में आपके मुंह से बस यही निकलेगा कि ये बात तुम्हें कैसे मालूम..???
और फिर वो; आपकी इस बेवकूफी पर हल्का सा मुस्कुरा देंगें।😊😊
.
ये Article आपको कैसा लगा, कृपया अपने comments के माध्यम से अवश्य बताइयेगा।
जय हिंद।
.
इन्हें भी पढ़ें:-

Sunday, 5 March 2017

मेरे सुधरने से क्या; दुनियाँ सुधर जाएगी...!!

मेरे सुधरने से क्या; दुनियाँ सुधर जाएगी...!!

.
दुनियाँ में करोड़ों लोग हैं तो करोंड़ों परेशानियां भी हैं और करोड़ो आश्चर्य भी।
इसीलिए आपको ये सुनकर आश्चर्य चकित नहीं होना चाहिए कि मेरी ये website (technic jagrukta) भी करोङों में हैं।
.
खैर, इस post में; मेरा motive अपनी website को promote करना नहीं है।
बल्कि ऐसे लोगों के बारे में है जो दुनियाँ का उदाहरण देकर हमेशा गलत काम करते हैं..!!
.
अभी कुछ दिन पहले 3-4 दोस्तों के साथ talkies में movie देखने गया।
अभी movie start ही हुई थी कि एक दोस्त का फोन ring करने लगा।
उसने call receive किया और बात करने लगा।
इससे आसपास बैठे तीन चार लोगों को बहुत disturb हो रहा था और बार-बार मुड़कर मेरे उस दोस्त को ऐसे घूर रहे थे जैसे कि किसी अनोखी चीज को घूरते हैं।
वैसे घूर तो मैं भी उसे रहा था लेकिन डाँटने को।😊😊
खैर, जैसे ही उसका कॉल cut हुआ तब उन लोगों ने चैन की साँस ली और शायद मैंने भी।
मैंने उसे उसी वक्त कुछ समझाना चाहा लेकिन talkies के बाहर समझाना ही उचित समझा।
.
जैसे ही हम लोग talkies से बाहर निकले वैसे ही मुझे उस बात का ख्याल आ गया।
और मैं उसे समझाने लगा कि भाई सुधर जा सुधर..!!
talkies में call receive करना जरुरी था क्या...???
पता है कितने लोग disturb हो रहे थे?
.
पता नहीं क्यों मेरी इस बात से वो थोड़ा नाराज हो गया और गुस्सैले भाव से बोला - मेरे सुधरने से क्या; दुनियाँ सुधर जाएगी।

Disturb हो रहे थे तो होने दो...!!! मैं अकेला ऐसा इंसान थोड़े ही हूँ जो talkies के अंदर बात करता हूँ।
और भी बहुत सारे लोग हैं जो बात करते हैं।
.
खैर, उसके इस जवाब से थोड़ा मैं भी आहत हो गया और फिर मैंने उसकी इस बात का कोई उत्तर नहीं दिया क्योंकि उस वक्त वो समझने के मूड़ में था ही नहीं।
.
लेकिन पता नहीं क्यों रात को सोते समय वही बात mind में आ गई और सोचने लगा कि आखिर लोग ऐसा क्यों कहते हैं कि "मेरे सुधरने से क्या; दुनियाँ सुधर जाएगी।"
.
अरे भाई हाँ सुधर जाएगी...!!!
क्योंकि ये दुनियां भी तो हम और तुम से ही मिलकर बनी है।
.
चलो; एक बार मान भी लेते हैं कि नहीं सुधरेगी...!!
लेकिन दुनियाँ में सभी लोग तो बिगड़े हुए नहीं हैं कुछ तो सुधरे भी हैं...
तो आप उन सुधरने वालों को उदाहरण क्यों नहीं लेते हो..???
.
खैर; हम हमेशा छोटी-छोटी बातों को ignore कर देते हैं...
जैसे कि-
👉talkies में movies देखते समय; call receive करना या दोस्तों से बातें करना
👉दीवारों पर पोस्टर चिपकाना
👉दीवारों पर warning लिखी होने के बावजूद भी पेशाब करना
👉public place पर गुटखा या तम्बाखू की पीच थूकना
👉ट्रेन में मूंगफली के छिलके फैलाना या सिगरेट पीना
👉traffic signal को तोड़ना.....आदि।
.
ऐसी तमाम बातें हैं जिन्हें हम अक्सर ignore ही करते हैं।
ये सभी छोटी-छोटी बातें हो सकती हैं लेकिन इनके पीछे छुपी परेशानी कभी कभी बड़ा रूप धारण कर लेती हैं और फिर ये छोटी सी परेशानी ही तिल का ताड़ और राई का पहाड़ बन जाती हैं..!!!
.
इसीलिए जब कभी भी कोई अच्छा कार्य करो तो इस ख्याल को बीच में कभी ना लाओ कि वो rules follow नहीं करते तो भला हम क्यों करें...???
.
अरे भाई वो तो दुनियाँ के failures के उदाहरण लेते हैं जो सोचते हैं कि "मेरे सुधरने से क्या; दुनियाँ सुधर जाएगी।"
और यही सोचकर गलत काम करते रहते हैं...
.
और वैसे भी किसी ने कहा भी है कि-
"आदमी तब बड़ा नहीं माना जाता जब वो बड़ी-बड़ी बातें करने लगे; आदमी तो तब बड़ा माना जाता है जब वो छोटी-छोटी बातें समझने लगे।"
.
इसीलिए दोस्तों इन छोटी-छोटी बातों को ignore करना छोटे लोगों का काम है जबकि हम तो बड़े हैं...!!!
.
अंत में कहना चाहूंगा कि-
हर एक काम को ऐसे करो कि वो एक निशानी बन जाए।
और निशानी ऐसी बनाओ कि वो आपके नाम से जानी जाए।।
.
जय हिंद, जय भारत।
.
इन्हें भी पढ़ें :-
1.विश्वास Vs अंधविश्वास
2.आखिर अपनी negative think को positive think में कैसे बदलें...???
3.पहचानें स्वयं की ताकत...!!!
4.जागरूकता एक ऐसा शब्द - जो हमें महान बनाता है।

Wednesday, 22 February 2017

अनकही बातें - जो दिल कहे!!!

अनकही बातें - जो दिल कहे..!!!


हजार गलतियाँ दिखी मुझे दूसरों में;
फिर मैंने उन्हें सुधारने के तरीके भी बताये।
.
हक्का-बक्का तो, तब रह गया मैं;
जब उन्होंने मुझपे ही उँगली उठाई!!
.
फिर बैठा जब मैं खुद की गलतियाँ गिनने
तो वाकई ही खुद में बहुत सी गलतियाँ पाईं!
.
सोचा कि चलो; एक बार सुधार लूँ उनको
लेकिन कल-कल करके कभी सुधर ना पाईं।।
.
दिल में रोज सुबह जल्द जागने की ख्वाहिश लेकर सोता हूँ।
लेकिन बिन मकसद, सुबह जल्द जागने की ख्वाहिश कभी पूरी हो ना पाई।
.
जानता हूँ कि जिंदगी ही देती है मुझे, हर सुबह एक नई जिंदगी।
लेकिन पता नहीं क्यों वो जिंदगी मुझे कभी रास ना आई।
.
दिल में तो भरी हैं बहुत ही अच्छी अच्छी बातें
लेकिन ना जाने क्यों उनमें से एक भी अच्छी बात पूरी हो ना पाई।
.
कभी मौका मिलता है मुझे तो दूसरों को ज्ञान देने से कभी नहीं चूकता;
लेकिन इम्तिहान तो तब आया जब उसी ज्ञान को पूरा करने की मेरी खुदकी बारी आई।
.
ये दुनियां सभी जानती है भली बुरी बातों को
लेकिन न जाने क्यों उसे भली बातों में ख़ुशी नजर ही ना आई।
.
दुनियाँ के उसूल ही कुछ अजब है यारो
अजब अनोखे रीतिरिवाज देखकर मेरी तो आँखे भर आईं।
.
देखो देखो यारो कितना मुर्ख हूँ मैं
जो दुनियां मुझे अजीब लगती है 
दुःख-दर्द में मैंने उन्हें ही अपनी व्यथा सुनाई।
.
अब तो अकेले रहने की आदत डाल रहा हूँ मैं
फिजूल में ही मैंने इस दुनियाँ से प्रीति लगाई।
.
अकेला हूँ यारों और अकेला ही रहना चाहता हूँ
इसीलिए तो मैंने कविताओं में अपनी महफिल सजाई, महफिल सजाई, महफ़िल सजाई😢😢.
.
इसीलिए तो friends; कभी कभी इंसान इतना थक जाता है कि वह अकेला; सिर्फ अकेला रहना चाहता है।
.
ये poem आपको कैसी लगी कृपया अपने commentsके माध्यम से अवश्य बताइयेगा।
.
जय हिंद
.
इन्हें कविताओं को भी पढ़ें :-
1.Poem - एक अहसास
2.ये जिंदगी है यारो...
3.प्रेरणादायक कविता - जब हम किसी से
4.दुःख इस बात का नहीं कि....

Monday, 13 February 2017

इंसान का मशीनी दिमाग - कुछ भूला कुछ याद रहा

●आज के इंसान का मशीनी दिमाग ना जाने कितनी जगह spread होता है।
आज के इंसान का दिमाग 10 बातों को एक साथ लेकर चलता है और पूरे दिन इसी उधेड़बुन में लगा रहता है कि इन 10 कामों को; एक ही बार में; जल्दी से जल्दी किस तरह finish किया जाए।

वैसे आज के हिसाब से देखा जाए तो "एक तीर से दो निशाने" वाली कहावत वास्तविक सिद्ध नहीं होती।
क्योंकि आज हम सभी लोग एक तीर से दो नहीं बल्कि 10 के 10 निशाने लगाना चाहते हैं।
हम चाहते हैं कि कोई भी काम बस एक बार में हो जाए और फिर उसके बाद हम हो जाएं फ्री।
लेकिन तभी गहरी सोच में डूब जाते हैं कि आखिर ये होगा कैसे...???
और फिर सोचने में ही इतना time spend कर देते हैं जितना कि काम करने में नहीं लगता।
so that friends; किसी भी काम के बारे में सोचो कम और करो ज्यादा।
.
●आज हम सभी जानते हैं कि google सभी समस्याओं का solution है।
जैसे कि :-
★किसी place की जानकारी चाहिए होती है तो गूगल;
★किसी व्यक्ति की जीवनी पढ़नी होती है तो गूगल;
★किसी चीज का full form चाहिए होता है तो गूगल...आदि।
.
आज हम सभी लोगों ने अपना दिमाग चलाना ही बंद कर दिया है।
जैसे कि - किसी चीज का full form चाहिए होता है तो तुरंत google पर search करते हैं और full form मिलते ही वहां से quit कर जाते हैं ना कि उस full form को बार-बार rewind करके अपने mind में save करते हैं।
फिर कुछ दिनों या महीनों बाद उसी चीज का full form फिर चाहिए होता है तो दिमाग में ये आता जरूर है कि इसका full form मैंने पहले पढ़ा था लेकिन याद नहीं आ रहा; ये सोचते हुए अपनी उँगलियाँ automatic ही google पर typing करने लगती हैं।
और full form मिलते ही अनायास ही दिल से निकलता है; ओहो तो ये था!!! तबसे याद क्यों नहीं आ रहा था???
अरे!कैसे आएगा भाई!!!
आपने उस time; full form को सिर्फ देखा था; ना कि carefully पढ़ा था।
तो friends, इस तरह हम google पर कोई भी जानकारी सिर्फ सरसरी निगाहों से देखते ही हैं ना कि carefully पढ़ते हैं।
फिर जितनी बार उस चीज की जानकारी चाहिए होती है तो mind पर कम और google पर ज्यादा जोर देते हैं।
यही छोटे-छोटे लक्षण ही तो दर्शाते हैं कि हम अपने mind पर बिल्कुल भी जोर देना नहीं चाहते..!!!
.
●पहले जब मोबाइल फ़ोन इतने ज्यादा spread नहीं थे तो हम सभी अपने relatives के मोबाइल नंबर भी जुबानी याद रख लेते थे।
लेकिन जब से smart phones ने सबकी pocket में अपना कब्जा किया है तब से हमें relatives के तो क्या? अपनी secondary sim के मोबाइल नंबर भी याद नहीं रहते!
क्योंकि अब किसी के मोबाइल नंबर याद करना हमें waste of time ही लगता है।
.
देखा जाए तो ये बातें बहुत छोटी हैं लेकिन सोचा जाए तो बहुत बड़ी।
क्योंकि जब कभी अगर गलती हमारा मोबाइल गुम हो जाए तो सबसे पहली फिक्र हमें data और contacts की ही रहती है।
इसीलिए अंत में मैं इस article से सम्बंधित सिर्फ तीन बातें ही कहना चाहूंगा...!!!

👉1.अगर दो मिनट का काम हो तो दस मिनट सोचने में ना लगाएं मतलब सोचो कम और करो ज्यादा।
.
👉2.google पर कोई भी चीज search करते वक्त उसे सिर्फ देखो मत बल्कि carefully पढ़ो।
मैं तो यहाँ तक कहता हूँ कि उसे तब तक rewind करो जब तक कि हमें ये ना लगने लगे कि अब तो ये lifetime के लिए हमारे mind में save हो गई हैं।
.
👉3.हम पहले की तरह ही अपने सभी नहीं तो close relatives और friends के mobile number तो जुबानी याद रख ही लें ताकि मोबाइल गुम या कोई घटना हो जाने पर किसी के मोबाइल से भी तुरंत dial कर सकें।
.
अगर आपको ये Article पसंद आया हो तो commentऔर share करना ना भूलें...!!!
.
जय हिंद
.
इन्हें भी पढ़ें :-
1.कहानी - नई सीख
2.कहानी - किसान पिता की दुविधा
3.The worship of God
4.inspire from 3 idiots movie

Tuesday, 24 January 2017

Poem - एक अहसास

Poem - एक अहसास

.

जब लगे ठोकर किसी पत्थर से आपको
तो उसे उठाकर किनारे कर देना
ताकि फिर दूसरी ठोकर लगने से बच जाएँ सभी..!!!
.
जब आये कोई घर आपके तो उसका भरपूर स्वागत कर देना
ताकि आप अतिथि देवो भव को साकार रूप दे सको...!!!
.
जब अँधेरा छा जाए आपकी जिंदगी में तो कुछ समय के लिए धैर्य रख लेना
ताकि भगवान आपकी जिंदगी में ठीक से उजाला कर सके...!!!
.
जब बोरिंग लगे कभी जिंदगी में तो अपनी मनपसंद किताब पढ़ लेना
ताकि समय व्यतीत होने के साथ ही आपको ज्ञान भी मिल सके...!!
.
जब कोई खाश चला जाये आपसे दूर तो उसे हर हालात में अपने पास बुला लेना
ताकि वो आपकी लाइफ के टॉप सीक्रेट किसी को ना बता सके...!!!
.
.
जब अहसास हो तुम्हें अपने स्वार्थी स्वभाव का तो उसमें सुधार अवश्य कर लेना;
ताकि आप लोगों के मुँह से "स्वार्थी" जैसा बुरा शब्द सुनने से बच सकें...!!!
.
जब लगे आपको कि आज आपने किसी का दिल दुखाया है तो अपने ईगो को साइड में रख; उससे माफ़ी मांग लेना;
ताकि आप उसकी नजर में हमेशा के लिए रहमदिल बन सको...!!!
.
बातें तो बहुत हैं कहने को लेकिन सभी लोग उनका अनुसरण नहीं कर सकते...!!!
इसलिए ये वो lines हैं जिन्हें follow करने के बाद आपका एक अलग ही व्यक्तित्व उभरेगा।।!!
.
SO Friends; ये poem आपको कैसी लगी कृपया अपने comments के माध्यम से अवश्य बताइयेगा।
.
जय हिंद...
.
इन poems को भी पढ़ें :- 
01.ये जिंदगी है यारो...
02.जब हम किसी से...
03.हम दुनियाँ से...
04.दुःख इस बात का नहीं कि....