Friday, 14 April 2017

Information और Knowledge में क्या अंतर है..??(What is the difference between Information and knowledge)

Information और Knowledge में क्या अंतर है..??
जानिये एक प्रेरणादायी अंदाज में...

जानकारी तो हम बचपन से ही इकठ्ठा करते आएं हैं,
जब हम nursery class में पढ़ते थे तो हमारे teacher हमें बैठना सिखाते थे, फिर पांचवी class तक आते आते हमें भूगोल और इतिहास की जानकारी दी जाने लगी थी;
और अब; जब हम college में पढ़ रहे हैं तब भी जानकारी इकट्ठी किये जा रहे हैं और हम sinθ+Cosθ =1 से कहीं आगे निकल चुके हैं।
दुनियाँ भर की जानकारी(information) हो गई है अब हमें।

लेकिन अगर बात knowledge की, की जाए तो..??

Sorry for that; but मैं कहना चाहूंगा कि हमने जितनी भी जानकारी इकठ्ठा की है उसकी 10% भी knowledge नहीं है।
क्योंकि...
याद करो वो दिन; जब हमें नैतिक कर्तव्य (moral value) का पाठ पढ़ाया जाता था और हमें उस पाठ में बताया जाता था कि हमें माता-पिता की सेवा करना चाहिये और अनुशाशन का पालन करना चाहिए।
Teacher ने तो स्कूल में केवल हमें जानकारी(information) दी थी कि माता-पिता की सेवा करना चाहिए;
लेकिन उस जानकारी को ज्ञान(ज्ञान) में तभी convert किया जा सकता था जब हम real में घर आकर माता-पिता की सेवा करते।
बस यही difference तो है information & knowledge में।
लेकिन तब, घर आते ही हम school की बातें school में ही छोड़ आते थे क्योंकि हम समझते थे कि ये बातें तो बस exams में लिखने के लिए होती हैं।
फिर माता-पिता की सेवा करना तो दूर; उलट उनसे रोज किसी ना किसी बात को लेकर डाँट ही खाते थे।
खैर, वो तो एक बचपन था; हम समझदार नहीं थे लेकिन अगर बात वर्तमान की; की जाए तो कितने हद तक हमें knowledge है!!!
कितनी सेवा करते हैं अपने माँ-बाप की..??

अगर हम आज भी अपने माता-पिता की सेवा करते हैं तो वास्तव में हम एक; strong knowledge रखते हैं और एक चरित्रवान व्यक्ति हैं।

अगर real में माँ-बाप की सेवा नहीं करते हैं तो  क्या फायदा है उस जानकारी का जो जिंदगी में किसी काम ही नहीं आती।
.
चलो अब बचपन की नैतिक कर्तव्य की किताब छोड़ो।
अब बात करते हैं एक निबंध (essay) की, 👍जो हमने बारहवीं class में सीखा था और exams में उसके बारे में अच्छे से explain भी किया था।
उस निबंध का नाम था :
दहेज - एक सामाजिक अभिशाप।
.
इस निबंध में हमने दहेज़ के बारे में जाना कि इसका लेन-देन क्यों बेकार है और यह किस तरह हमारे समाज को खोखला किये जा रहा है।
.
शायद, तब भी हमने उस निबंध के बारे में इसलिए जानकारी इकठ्ठा की ताकि सिर्फ exam में अच्छे से explain करके, अच्छे marks बटोर सकें।
.
सिर्फ information को अपने पास रखना महानता नहीं है, महानता तो उस information को knowledge में convert करने में है।
.
ठीक इसी तरह, दहेज के बारे में हमें जो जानकारी है उसे अगर समाज से हटाना है तो life में Apply करो और अगर किसी को दहेज़ लेने से नहीं रोक सकते तो कम से कम अपनी शादी में ना लेने की प्रतिज्ञा करें।
तभी सार्थक रूप से हम अपनी information को knowledge में convert कर सकते हैं।
क्योंकि "knowledge is better than information"
.
जय हिंद।

इन्हें भी पढ़ें - 


Wednesday, 29 March 2017

How to earn money from blogging or blog in hindi - blog se paise kaise kamaye

Ap sab ke dimag me ye question jarur aata hoga ki internet se paise kaise kamaye aur blog se paise kaise kamaye, Aaj me aap logo ko bataunga ki blog or blogging se paise kaise kamate hai, Blogging mein daily kafi loag aate hai apna career banane jisme se kuch safal (success) hote kuch fail hote hai, Blog online paise kamane ka sabse best way hai ap simply apna blog start kar sakte hai wo bhi free mein Bas apke pass honi chahiye writing skill, Internet conncetion,thodi si computer ki knowledge and readers. waise to internet se paise kamane ke bahut sare tarike hai but me aaj apko bataunga top 5 tarike jinse app apne blog se paise kama sakte hai,


Blog se paise kamane ke top 5 (five) tarike


 1. Google adsense:


gogle adesnse google ki ek aisi service hai, jo online website promotion  aur business ko online promote karne karne ke liye banai gai hai . jo log apne business ya website ka promotion online  karna chahate hai wo log google ko paise dete hai apne business aur website ko online promote karne ke liye, 

Google adsense blog,website,youtube videos par apne ads dikhata hai aur google ke ads jis bhi blog,website,videos par chalate hai unke owners ko commision deta hai 


2. Affiliate Marketing:


Affiliate Marketing blog se paise kamane ka sabse achha tarika hai. affiliate marketing se aap per click par $1-30 tak kama sakte hai. high pay affiliate se ap ek click ka $100 bgi earn kar sakte hai.

 but iske liye apke blog ya website ka traffic high hona chahiye kam se kam apke blog par daily 4000 se 6000 pageviews pr day  hone jaruri hai. Aap apne blog ke hisab se  (apka blog ke topic se related )seo affiliate marketing program join kar ke $100 tak per click par kama sakte hai


3.Infolinks:

Infolink ki ek sabse achhi bat ye hai ki isse connect hone ke bad apko ads dalne ki jarurat hi nhi padti. ye apke posts ke top word ko hi ads me convert kr deta hai.

Infolinks un bloggers ke liye achhi rahti hai jo tech. se ralated topic par post (blog) likhte hai. agar ap blogging,internet etc se related post write karte hai to ye apke lie nhi hai.

NOTE:- Infolinks ko blog se connect karne ke bad apke blog ka traffic low ho sakta hai kyuki log isko passand nhi karte hai.
kyuki ye apke post ke top words ko hi ads me badal deta isse visitor ko problem hoti hai


4. Sell product:


Agar ap top internet marketer hai aur apko internet ki achhi knowledge hai aur apke blog ka traffic achha hai to aap local prodocts ko bech kar income kar sakte hai.


5. Start Service:


Agar apko designing, seo,create blog, blogging ke bare me achhi knowledge hai to aap apne blog or website par self service start kar ke income kar sakte hai.

examply agar apko designing ki  achhi jankari hai to ap blog or website ki liye theme create or design kar ke paise earn kar sakta hai






I hope apko mera ye blog achha laga hoga. agar apko koi problem ho to ap comment box me comment kar ke punchh sakte hai me apki help jarur karunga 

Monday, 27 March 2017

Blog kya hai ? Blogspot kya hai? Blogger kya hai? Blogging kya hai?

what is blog? what is blogspot? what is blogger? what is blogging? 
.
Aaj me apko in sabhi savalo ke answer dunga wo  bhi details mein. 
~ye sabhi saval unke liye important hai jo blog start krna chahate hai aur apni knowledge and thoughts ko internet par share karna chahate hai.  


WHAT IS BLOG?



Blog kya hai? Blog kya hota hai? ब्लॉग क्या है ?

blog ek aisi website or web page hai jis par log apne thoughts ko share krte hai aur apni knowledge share karte hai; internet user ke sath.
aur blog ek aisi jagah hai jaha kuch na kuch sikhne ko milta hai har hour new post hoti rahti hai.

Blog - ek english word hai jo WEBLOG ka short naam hai.
weblog naam 1997 mein jorn berger ne rakha tha iske baad 1999 me Merholz ne iska naam short kar ke BLOG rakh diya.
aaj log ise isi naam se jante hai ab ye kafi popular ho gya hai.

simple words me bataun to blog ek book ya dairy likhne ki tarah hai; bas fark itna hai books offline pages par likhi jati hai jabki blog online internet ke web pages par likha jata hai.
jaise wordpress, blogspot aur other bloging plateform BLOG likhne ke main source hain.

What is blogspot? Blogspot kya hai? Blogspot क्या है?

Blogspot ek tarah ka account hai, website source hai aur ye google dwara provided hai.
Agar aapke paas google(gmail) account hai to aap bhi blogspot ki help se apni website bana sakte hain aur apne thoughts ko logo tak pahuncha sakte hain.
I means blogspot wah platform hai jis par log BLOG post karte hain.
.

blogger kya hai? ब्लॉगर क्या  है ?

.
Blogger hum us person ko bolte hai jo blog par posts likta hai , jo blog ko manage krta hai and jo blog suru karta hai.
For example :- agar aap kisi blogging plateform  par apna blog banate ho aur us par posts likhte ho to apko blogger kaha jayega phir bhale hi aap kisi bhi topic par apni knowledge share karte hai phir chahe wo platform blogspot ho ya koi aur.

Blogging kya hai ?  ब्लॉग्गिंग  क्या है?


Apna Blog banakar aur us par work karna Blogging kahlata hai.
In other words, Blog bana kar blog par posts likhne aur blog ko maintain karne ko hi blogging kaha jata hai, 
Jab mai ye Blog publish kar raha tha. Iska means mai Blogging kar raha tha.
I hope, aap logo ko blogging ka matlab bhi samajh aa gaya hoga.


agar apko phir bhi koi doubt hai ya phir koi question karna hai to aap comment box me comment kar ke puchh sakte hain.
.
Jai hind👍👍👌👌

Friday, 17 March 2017

हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!

हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!


इंसान👳एक पेड़🌳से...!!!
हे पेड़!!! कितना अभागा है तू...!!!
जब तक कोई तेरे को पत्थर ना मारे;
तब तक तू फल ही नहीं देता।
.
पेड़🌳का जवाब...✍
हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!
मैं तो अपने मीठे फल ही जमीं पर गिराता हूँ
लेकिन तुम लोग फिर भी मुझे पत्थर मारते हो,
फिर मैं उन पत्थरों को भी सहकर तुम्हें फल देता हूँ!!
और फिर बाद में अभागा जैसा शब्द भी तुम्हारे मुँह से सुनता हूँ!!!
अब तू ही बता कि अभागा कौन...???
.
इंसान👳एक🌅नदी से...!!!
हे नदी!!! बड़ी क्रूर हो तुम...!!
जो तुम्हारे घाट पर आता है;
कभी-कभी तुम उसकी भी जान ले लेती हो!!!
.
नदी🌅का जवाब...✍
हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!
वरना मैं तो उन प्यासे जीवों की भी प्यास बुझाती हूँ
जिन्हें तुम देखना भी पसंद नहीं करते..!!
और तुम तो कभी-कभी पैसों के लिए क्रूरता से; अपने सगों का ही क़त्ल कर देते हो..!!!
अब तू ही बता कि क्रूर कौन...???
.
इंसान👳एक शेर🐯से...!!!
हे शेर!!! बड़ा दुष्ट है तू...!!!
बड़ी ही बेदर्दी से किसी भी जानवर को मार कर खा जाता है तू!!!
.
शेर🐯का जवाब...✍
हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!
अगर मेरे दाँत और आँत तेरे जैसे होते
तो मैं किसी जानवर को मारकर खाता तो क्या; ऐसा करने की सोचता भी नहीं...!!!
वो तो तू ही है जो मौका पड़े तो जानवर तो क्या; हम जैसे शेर को भी मारकर खा जाए..!!!
अब तू ही बता कि दुष्ट कौन...???
.
इंसान👳एक कांटे↗से...!!!
हे कांटे!!! बड़ा बेशर्म है तू...!!!
जो तेरा कुछ भी नहीं बिगाड़ता;
अक्सर तू उसे ही चुभ जाता है।
.
कांटे↗का जवाब...✍
हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!
वरना मैं तो अपनी जगह ही स्थिर रहता हूँ; वो तो तुम ही हो जो देखकर नहीं चलते तो तुम्हें चुभन देकर; तुम्हारी गलती का अहसास कराता हूँ।
और तुम गलती का अहसास ना करके बड़ी ही बेशर्मी से मुझे ही बुरा-भला कहते हो..!!
अब तू ही बता कि बेशरम कौन...???
.
इंसान👳भगवान☝से...!!!
हे भगवान!!! बड़ा अन्यायी है तू...!!!
किसी को तूने यहाँ राजा बना दिया है तो किसी को रंक...!!!
.
भगवान☝का जवाब...✍
हे इंसान!!! ये तेरी सोच है...!!!
वरना पेड़🌳, नदी🌅, शेर🐯और कांटे↗के जवाब से ही तू मेरे अन्यायी होने का भी जवाब खोज सकता था!!!
खैर; मैंने तो हर इंसान को दो हाथ और दो पैर दिए हैं..!!!
वो तो तुम ही हो जो एक दूसरे के साथ अन्याय करके; उसे पीछे धकेलना चाहते हो..!!!
अब तू ही बता कि अन्यायी कौन...???
.
Moral of this poem :- दोस्तों👬, इस प्रकृति🌍की किसी भी चीज में कोई कमी नहीं है वो तो हमारी सोच ही है जो इतने खूबसूरत चाँद🌝में भी सिर्फ दाग🌚देखती है; ना कि उसकी खूबसूरती🌝।
बस अपनी सोच को खूबसूरत🌈बना लीजिए फिर ये दुनियां🌍भी तुम्हें ख़ूबसूरत💖ही नजर आएगी।
जय हिंद।
.
अगर आपको ये poem पसंद आई हो तो बाकी की poem भी पढें...!!!
और regular visit करते रहिए हमारी technic jagrukta वेबसाइट को!!!
हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं!!!
.
इन poems को भी पढ़ें =>

Wednesday, 15 March 2017

01.Best Android App

Best Adroid Apps & Description
.
हैलो दोस्तों,
technic jagrukta वेबसाइट में अब; एक और label (category) को Add किया गया है!
जिसका name है:-
"Best Adroid Apps & Description"
.
जैसा कि name से स्पष्ट है कि इसमें सबसे अच्छे और usable App के बारे में; details से बताया जाएगा।
ताकि आप हर अच्छे App का लाभ ले सकें जो कि आपके smartphone को और भी smart बना दें।
तो आइये start करते हैं...

●आज हर वो शख्श; जो smartphone use करता है उसकी मुख्य समस्या Battery Backup का कम होना है।
.
और किसी भी मोबाइल के Battery Backup कम होने का एक कारण overcharge होना भी है।
.
कुछ लोग अपना मोबाइल overcharge होने की परवाह नहीं करते क्योंकि उन्हें तो अपने मोबाइल की battery सुबह; full जो देखनी है।
और फिर कुछ समय बाद; उन लोगों को भी Battery Backup जैसी समस्या से रूबरू होना पड़ता है।
.
तो कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनकी मोबाइल की battery भले ही Discharge हो लेकिन वो उसे फिर भी charge नहीं करते!!
क्योंकि उन्हें हमेशा डर सताता रहता है कि कहीं उनका मोबाइल overcharge ना हो जाए।
और इसी डर से वो मोबाइल को overcharge होने के बजाय Discharge रखना पसंद👍 करते हैं।
लेकिन ऐसे लोगों को सुबह होते ही सबसे पहले अपना मोबाइल charging पर लगाना पड़ता है और उसकी battery full charge होने तक, इन्तजार करना पड़ता है।
.
अब आप देख सकते हैं कि इन दोनों condition में ही सबको problem का सामना करना पड़ रहा है।
.
खैर, technic jagrukta पर हर problem का solution है।
तो इस problem का जो solution है वह है एक Android App जो play store पर free में उपलब्ध है...
जिसका name है...
"Full Battery theft Alarm"



जी हाँ; Full Battery theft Alarm एक ऐसा Android App है जिसकी मदद से आप Battery को overcharge होने से तो बचा ही सकते हैं, साथ ही साथ अपने mobile को चोरी होने से भी बचा सकते हैं।
.
इस App के अंदर बहुत सारे feature हैं..!!
लेकिन जो मुख्य feature हैं वो चार हैं :-
.
1. Full Battery Alarm:-
(View image)

Mainly, इसी feature को ध्यान में रखते हुए ये App बनाया गया है इसे enable करके; आप रात को मोबाइल charge पर लगाकर, बेफिक्र होकर सो सकते हैं।
क्योंकि यह App आपके द्वारा set की गई battery level तक चार्ज होते ही Alert करने लगेगा।
जैसे कि आपने 90% Battery level पर Alarm set कर दिया, तो जैसे ही आपका mobile 90% charge तक पहुंचेगा; तो उसी वक़्त ये ring करने लगेगा कि आपका मोबाइल 90% charge हो गया है तो alarm सुनकर आप तुरंत अपने मोबाइल को charger से disconnect कर, overcharge होने से बचा लीजिये।
है ना कमाल का फीचर।
.
2. Anti theft:-
(View image)


शादी समारोह में जाने पर हर किसी को mobile charging की समस्या से गुजरना पड़ता है अगर समस्या solve भी हो गई तो कोई अपना मोबाइल चोरी होने के डर से चार्ज पर नहीं लगाता।
वैसे तो public place पर mobile चार्ज नहीं करना चाहिए लेकिन अगर जरुरत ज्यादा है।
तो इस app के द्वारा आप थोड़ा बेफिकर हो सकते हैं और मोबाइल charge कर सकते हैं..!!
क्योंकि मोबाइल charge पर लगाते ही यह app Theft Alarm का option देता है जिसे आप enable कर सकते हैं।

ऐसा करने से जैसे ही कोई आपका मोबाइल charger से disconnect करेगा तो आपका मोबाइल loudly आवाज करने लगेगा और वह तब तक बंद नहीं होगा जब तक कि आपके द्वारा set password उसमे ना डाला जाए।

3. Battery temperature warning level:-


इसे enable करने पर आप अपनी battery को overheat होने से बचा सकते हैं क्योंकि जैसे ही आपकी battery ज्यादा गर्म होगी तो यह आपके द्वारा set level पर indicate करने लगेगा।
और आप; इस बीच अपने मोबाइल को थोड़ा rest दे सकते हैं।

4. low battery level:-
(View image)

Android mobile में 15% पहुँचने पर normally low battery warning दी जाती है लेकिन इस App के जरिये आप low Battery warning भी अपने हिसाब से manage कर सकते हैं।
जैसे कि :- 15%, 20%, 25% etc.
.
तो friends, ये थे इस app के features और description.
.
आपको यह BLOG कैसा लगा, कृपया अपने comments के माध्यम से अवश्य बताइयेगा।
जय हिंद।

Monday, 13 March 2017

Behind the reason of i am fine!!

आखिर परेशान होने के बावजूद भी क्यों कहतें हैं लोग; कि मस्त हूँ..!!
जानिये reason...!!


आज हर किसी की जिंदगी में परेशानी नामक शब्द ने अपनी जगह बना ली है..!!!
●अगर आज कोई आपका हालचाल पूछता है तो आप मस्त हो कहकर फिर उसका हाल पूछने लगते हो...जबकि आपकी जिंदगी में मस्त का 'म' भी नहीं होता है।
''यह Article आप technic jagrukta वेबसाइट पर पढ़ रहे हैं''
खैर, आपने कभी सोचा है कि आप हमेशा सभी से; मस्त हैं, ठीक हैं, अच्छे हैं आदि। क्यों कहते हो..??
जबकि आपकी जिंदगी में कुछ और ही चल रहा होता है।
कुछ ही ऐसे लोग होंगे जो सभी को अपना वास्तविक हाल बताते होंगें..!!
.
अगर गहराई से सोचा जाये तो हर मुश्किल का हल निकल ही आता है..!!
.
चलो आज इसी बात की गहराई में चलते हैं कि हम परेशान होने के बावजूद भी किसी के द्वारा पूछे जाने पर ठीक हैं; क्यों कहतें हैं..???
.
हालाँकि इसका जवाब थोड़ा complicated है but उतना ही effective.
.
ऐसा इसलिए होता है क्योंकि सामने वाले ने अगर प्रश्न किया कि भाई कैसे हो..???
तो दरअसल आप बताना चाहते हों कि आपकी जिंदगी में वाकई ही बहुत problems हैं...
लेकिन रुक जाते हो क्योंकि आपकी problems को आप कुछ ही शब्दों में बयाँ करना नहीं चाहते हो अगर आपने अपनी problems बताना start किया तो काफी समय लग जाएगा और शायद दूसरा भी upset हो जाएगा।
फिर भी इस बात की कोई जवाबदेही नहीं कि solution भी मिल ही जाएगा।
ये सारी बातें सिर्फ 5 सेकंड के अंदर ही दिमाग में चक्कर लगा देती हैं
और फिर आप दिल से ना बताकर दिमाग से बोलते हो कि भाई अच्छा हूँ..!!😊😊
क्योंकि इसके बाद उस व्यक्ति के पास; पूछने को कोई दूसरा प्रश्न; बचा ही कहाँ..??
इसीलिए आजकल; क्या हाल है..?? का common reply "मस्त हूँ" बन गया है।😊😊

.
अब दूसरी बात को लेते हैं...
अगर आप बोले कि मस्त नहीं हो..!!
तो उधर से दूसरा प्रश्न होगा - क्यों..??
तो फिर आपको reason बताना होगा..!!
फिर तो दूसरी तरफ से two liner प्रश्न (कब, कहाँ, क्यों, कैसे ??) का इतना अम्बार लग जाएगा कि आप सभी प्रश्नों के reply देने में असहज महसूस करोगे।
इसीलिये इन 100 प्रकार के प्रश्नों से बचने के लिए बोला जाता है कि मस्त हैं भाई।👍👍
.
वैसे, एक तरह से देखा जाए तो ये सही भी है क्योंकि अपनी हर एक बात और ना ही हर एक समस्या हर किसी के साथ share नहीं करना चाहिए।
क्योंकि अगर आप ऐसा करते हो तो आपको ये लंबे समय तक याद नहीं रहेगा कि आपने अपनी समस्याएं किस-किस को बताईं थीं।
जबकि दूसरी तरफ वो याद रख लेंगें और फिर एक दिन आपकी ही बातें; आपको बताकर; आपको चौंका देंगें।
और बदले में आपके मुंह से बस यही निकलेगा कि ये बात तुम्हें कैसे मालूम..???
और फिर वो; आपकी इस बेवकूफी पर हल्का सा मुस्कुरा देंगें।😊😊
.
ये Article आपको कैसा लगा, कृपया अपने comments के माध्यम से अवश्य बताइयेगा।
जय हिंद।
.
इन्हें भी पढ़ें:-

Sunday, 5 March 2017

मेरे सुधरने से क्या; दुनियाँ सुधर जाएगी...!!

मेरे सुधरने से क्या; दुनियाँ सुधर जाएगी...!!

.
दुनियाँ में करोड़ों लोग हैं तो करोंड़ों परेशानियां भी हैं और करोड़ो आश्चर्य भी।
इसीलिए आपको ये सुनकर आश्चर्य चकित नहीं होना चाहिए कि मेरी ये website (technic jagrukta) भी करोङों में हैं।
.
खैर, इस post में; मेरा motive अपनी website को promote करना नहीं है।
बल्कि ऐसे लोगों के बारे में है जो दुनियाँ का उदाहरण देकर हमेशा गलत काम करते हैं..!!
.
अभी कुछ दिन पहले 3-4 दोस्तों के साथ talkies में movie देखने गया।
अभी movie start ही हुई थी कि एक दोस्त का फोन ring करने लगा।
उसने call receive किया और बात करने लगा।
इससे आसपास बैठे तीन चार लोगों को बहुत disturb हो रहा था और बार-बार मुड़कर मेरे उस दोस्त को ऐसे घूर रहे थे जैसे कि किसी अनोखी चीज को घूरते हैं।
वैसे घूर तो मैं भी उसे रहा था लेकिन डाँटने को।😊😊
खैर, जैसे ही उसका कॉल cut हुआ तब उन लोगों ने चैन की साँस ली और शायद मैंने भी।
मैंने उसे उसी वक्त कुछ समझाना चाहा लेकिन talkies के बाहर समझाना ही उचित समझा।
.
जैसे ही हम लोग talkies से बाहर निकले वैसे ही मुझे उस बात का ख्याल आ गया।
और मैं उसे समझाने लगा कि भाई सुधर जा सुधर..!!
talkies में call receive करना जरुरी था क्या...???
पता है कितने लोग disturb हो रहे थे?
.
पता नहीं क्यों मेरी इस बात से वो थोड़ा नाराज हो गया और गुस्सैले भाव से बोला - मेरे सुधरने से क्या; दुनियाँ सुधर जाएगी।

Disturb हो रहे थे तो होने दो...!!! मैं अकेला ऐसा इंसान थोड़े ही हूँ जो talkies के अंदर बात करता हूँ।
और भी बहुत सारे लोग हैं जो बात करते हैं।
.
खैर, उसके इस जवाब से थोड़ा मैं भी आहत हो गया और फिर मैंने उसकी इस बात का कोई उत्तर नहीं दिया क्योंकि उस वक्त वो समझने के मूड़ में था ही नहीं।
.
लेकिन पता नहीं क्यों रात को सोते समय वही बात mind में आ गई और सोचने लगा कि आखिर लोग ऐसा क्यों कहते हैं कि "मेरे सुधरने से क्या; दुनियाँ सुधर जाएगी।"
.
अरे भाई हाँ सुधर जाएगी...!!!
क्योंकि ये दुनियां भी तो हम और तुम से ही मिलकर बनी है।
.
चलो; एक बार मान भी लेते हैं कि नहीं सुधरेगी...!!
लेकिन दुनियाँ में सभी लोग तो बिगड़े हुए नहीं हैं कुछ तो सुधरे भी हैं...
तो आप उन सुधरने वालों को उदाहरण क्यों नहीं लेते हो..???
.
खैर; हम हमेशा छोटी-छोटी बातों को ignore कर देते हैं...
जैसे कि-
👉talkies में movies देखते समय; call receive करना या दोस्तों से बातें करना
👉दीवारों पर पोस्टर चिपकाना
👉दीवारों पर warning लिखी होने के बावजूद भी पेशाब करना
👉public place पर गुटखा या तम्बाखू की पीच थूकना
👉ट्रेन में मूंगफली के छिलके फैलाना या सिगरेट पीना
👉traffic signal को तोड़ना.....आदि।
.
ऐसी तमाम बातें हैं जिन्हें हम अक्सर ignore ही करते हैं।
ये सभी छोटी-छोटी बातें हो सकती हैं लेकिन इनके पीछे छुपी परेशानी कभी कभी बड़ा रूप धारण कर लेती हैं और फिर ये छोटी सी परेशानी ही तिल का ताड़ और राई का पहाड़ बन जाती हैं..!!!
.
इसीलिए जब कभी भी कोई अच्छा कार्य करो तो इस ख्याल को बीच में कभी ना लाओ कि वो rules follow नहीं करते तो भला हम क्यों करें...???
.
अरे भाई वो तो दुनियाँ के failures के उदाहरण लेते हैं जो सोचते हैं कि "मेरे सुधरने से क्या; दुनियाँ सुधर जाएगी।"
और यही सोचकर गलत काम करते रहते हैं...
.
और वैसे भी किसी ने कहा भी है कि-
"आदमी तब बड़ा नहीं माना जाता जब वो बड़ी-बड़ी बातें करने लगे; आदमी तो तब बड़ा माना जाता है जब वो छोटी-छोटी बातें समझने लगे।"
.
इसीलिए दोस्तों इन छोटी-छोटी बातों को ignore करना छोटे लोगों का काम है जबकि हम तो बड़े हैं...!!!
.
अंत में कहना चाहूंगा कि-
हर एक काम को ऐसे करो कि वो एक निशानी बन जाए।
और निशानी ऐसी बनाओ कि वो आपके नाम से जानी जाए।।
.
जय हिंद, जय भारत।
.
इन्हें भी पढ़ें :-
1.विश्वास Vs अंधविश्वास
2.आखिर अपनी negative think को positive think में कैसे बदलें...???
3.पहचानें स्वयं की ताकत...!!!
4.जागरूकता एक ऐसा शब्द - जो हमें महान बनाता है।